कम्पयूटर से परिचय Introduction to computer

कम्पयूटर से परिचय

सम्पूर्ण विश्व मे शायद ही कोई इंसान बचा होगा जो इस शब्द से अभी तक अनजान होगा.

कम्प्यूटर एक इलैक्ट्रोनिक डिवाइस है । जो इनपुट के माध्यम से आंकडो को ग्रहण करता है उन्हे प्रोसेस करता है एवं सूचनाओ को निर्धारित स्थान पर स्टोर करता है ! कम्पयूटर एक क्रमादेश्य मशीन है । कम्पयूटर की निम्नलिखित विशेषताएँ है ।

1)कम्पयूटर विशिष्ठ निर्देशो को सुपरिभाषित ढंग से प्रतिवाधित करता है ।

2)यह पहले संचित निर्देशो को क्रियान्वित करता है ।

वर्तमान के कम्पयूटर इलेक्ट्रानिक और डिजिटल है । इनमे मुख्य रूप से तार ट्रांजिस्टर एवं सर्किट का उपयोग किया जाता है । जिसे हार्डवेयर कहा जाता है । निर्देश एवं डेटा को साफ्टवेयर कहा जाता है । कम्प्यूटर अपने काम-काज, प्रयोजन या उद्देश्य तथा रूप-आकार के आधार पर विभिन्न प्रकार के होते हैं। वस्तुतः इनका सीधे-सीधे अर्थात प्रत्यक्षतः (Direct) वर्गीकरण करना कठिन है, इसलिए इन्हें हम निम्नलिखित तीन आधारों पर वर्गीकृत करते हैं :

  1. अनुप्रयोग (Application )
  2. उद्देश्य (Purpose )
  3. आकार (Size)
  4. अनुप्रयोग के आधार पर कम्प्यूटरों के प्रकार

.यद्यपि कम्प्यूटर के अनेक अनुप्रयोग हैं जिनमे से तीन अनुप्रयोगों के आधार पर कम्प्यूटरों के तीन प्रकार होते हैं :

(a) एनालॉग कम्प्यूटर

(b ) डिजिटल कम्प्यूटर

(c) हाईब्रिड कम्प्यूटर

computer
computer
  1. उद्देश्य के आधार पर कम्प्यूटरों के प्रकार

कम्प्यूटर को दो उद्देश्यों के लिए हम स्थापित कर सकते हैं- सामान्य और विशिष्ट , इस प्रकार कम्प्यूटर उद्देश्य के आधार पर निम्न दो प्रकार के होते हैं :

(a ) सामान्य-उद्देशीय कम्प्यूटर

(b ) विशिष्ट -उद्देशीय कम्प्यूटर

  1. आकार के आधार पर कम्प्यूटरों के प्रकार

आकार के आधार पर हम कम्प्यूटरों को निम्न श्रेणियाँ प्रदान कर सकते हैं –

  1. माइक्रो कम्प्यूटर
  2. वर्कस्टेशन
  3. मिनी कम्प्यूटर
  4. मेनफ्रेम कम्प्यूटर
  5. सुपर कम्प्यूटर

4 कंप्यूटर और उसका महत्त्व 

आज के समाज मे जो कंप्यूटर नहीं जानता उससे मुर्ख कहा जाता हैं . आजकल कंप्यूटर बहुत महत्वपूर्ण हो गया है , क्योंकि यह बहुत ही सटीक ज्यादा तेज है, और कई कार्य को आसानी से हासिल कर सकता हैं. आज की दुनिया में कंप्यूटर बहुत उपयोगी हैं हम अनगिनत काम कंप्यूटर के द्वारा कर सकते हैं. मौसम फॉर्कस्टिंग और कई अन्य मुस्किल चीजों भी आसानी से हो जाती हैं. आज दुनिया का कोई भी इंसान नहीं बचा हैं जो किसी ना किसी रूप से कंप्यूटर से ना जुड़ा हुआ हो.

Pappu Bandod

मेरा नाम पप्पू बन्डोड मुझे हमेशा से ही कुछ ना कुछ नया करने की आदत है जब भी में अकेला होता हु तब तब में एक कुछ नए चीज का निर्माण जरुर कर देता हु मेरा मतलब ये है की में हमेशा नये विचार से कुछ न कुछ तैयार करता हु और उस विचार को में लिख लेता हु इसी लिए में यह वेबसाइट बनाई ताकि जब भी में कुछ नया सिखु तो में औरो को भी सीखा सकू अपने विचरो से अपने भवनों से धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *